I have a question!

I have a question.
To all my friends out there,
Posting our national flag over their instagram and Snapchat feeds,
To all my beloved relatives,
Who are proudly sharing the long patriotic messages over the whatsapp groups.
How many of you exactly have actually saluted our tricolor.
Sang the national anthem with all your heart.
Remembered the struggles of the mytryls,
And the deaths of the uncountable innocents,
Who marked our independence with their blood.
I want to ask that how many of you, exactly wish to serve our nation with pride,
And not just by uniform,
But by humanity,
For the unnoticed and the unprivileged.
I want to know,
From each and every single person out there,
What exactly independence mean to you?
What does it feel to shoutout “HAPPY INDEPENDENCE DAY”?
Does this come from the very depth of your heart,
Or is it filtered according the social media you are on,
Or may be it is also pretentious like most of the things today.
Or may be we don’t have to answer this, rather need realise by our selfs.

Advertisements

कहाँ गयीं वो चिड़िया।

कहाँ गयी वो चिडिंया,
जो हमारी खिड़की पे आती थी,
जिसकी कर्कश सी मधुर चाहचहाहट से,
सूरज की पहली किरण खिलती थी।

कहाँ गयी वो चिडिंया,
जिसका हमारे घर में ही छोटा सा घर होता था,
और कुछ महीनो के दरमियां,
हमारे परिवार में उसका भी परिवार होता था।

कहाँ गयी वो चिडिया,
जो फुदक फुदक कर हमारे अनाज बिखेरती थी,
शायद हमारे राशन मे से
अपने घर का पेट भारती थी।

कहाँ गयी वो गोरैया,
जिसको हम प्यार से चिड़िया बुलाते थे,
उसके उस घोसले में,
एक पूरी ज़िन्दगी का फलसफा देखते थे।

शायद वो चिड़िया कही नहीं गायी,
इस कांक्रीट के जंगल में,
अपना घरोंदा बनाने,
एक छोटा सा सुराख़ खोजती है।
आज भी हमारे अनाज में,
अपने लिए दाना खोजती हैं।
एक नया सवेरा लाने,
हमारी खिड़कियाँ खोजती है।
पर अब न सुराख़ बचे है,
न चत पे सूखते अनाज।
न खिड़किया है,
ओर न ही अब उसकी याद।
जब हम ही उसको भूल गये,
तो किसे उठाने आएगी,
हमारी गोरैया,
जिसको हम प्यार से चिड़िया बुलाते थे।

Mat Jao Na Yaar Bahut Yaad Aaoge..

Humse mile the senior ban kar,
Ab dost ban kar jaoge,
Mat jao na yr,
Bahut yaad aaoge.

Karaye the humse na jaane kitne hi task,
Ab un Palo Ko yaad kar k muskuraoge,
In tasveero aur kisso me,
Ye chaar saal dohraoge.

D block parking aur vaatika ki wo Bakar,
Shayad ab nahi kar paoge,
Apne jaane se,
Is college Ko Suna SA kar jaoge.

Sir mam keh kar bulane wale bahut milege,
Par humko nahi bhul paoge,
Party to bahut hogi,
Par “karte h party” keh kar party due kar paoge.

Milne ka waqt bhi ab Badal jaega,
Instagram aur WhatsApp stories se haal bhi PTA chal jayega,
Kuch mahino me ek Naya safar shuru ho jayega,
Aur Zindagi me ek Naya mukaam hasil ho jayega.
Waqt ka gujarna to ek reet h,
Kya is Lamhe Ko bhul paoge.
Mat jao na yr,
Bahut yaad aoge.

लिखूं तो आखिर क्या लिखूं? और किस लिये ?

लिखूं तो आखिर क्या लिखूं? और किस लिये ?
चीखना चाहती हूँ इसलिये या ये ख़ामोशी चुभ रही है इसलियेे।
इंसान में इंसानियत मर गयी है इसलिए, या हैवानीयत पैदा हो रही है इसलिये।
प्रशासन बधिर हो गयी है इसलिये या मैं कुछ करना चाहता हूँ इसलिये।

लिखूं तो आखिर क्या लिखूँ ? और किस लिये ?
वो लाचार थी इसलिये, या वो नासमझ थी इसलिये,
वो अकेली थी इसलिये , या वो लड़की थी इसलिये !
ओ असिफाँ थी इसलिये , या वो दामिनी थी इसलिये !

कुछ अगर लिख भी दूँ तो कौन सुनेगा !
जो सुनेगा वो आखिर क्या करेगा,
बिना बात की जो सजा मिल रही है,
वो क्या ज़ुर्म है, ये कौन बतायेगा।
आखिर कब तक हमारे दामन पर ये दाग आयेगा,
इस दहशत में इन्साफ का परचम कौन और कब फेहरायेगा।
ये कहने सुनने का खेल अब बंद करना पडे़गा,
आज हम युवा शक्ति को कुछ करना पडे़गा।
विविधता में एकता एक हथियार है जो अब उठाना पड़ेगा,

अगर आज सो गए तो ये जंग आखिर कौन लड़ेगा।

Aaj mujhe fir se bachpan jeena ka man karta hai…

Aaj mjhe phir se bachpan jeene ka man krta hai,
Aaj fir se baarish me bhigne ka man krta hai,
Wo garmi ki dopahar me ret ke gharonde banane ka man krta hai,
Aaj fir se bachpan jeene ka man krta h.

Aaj fir se maa ki goood me sone ka man krta hai,
Wo dadi-nani ki mithi mithi lori sunne ko man krta hai,
Aaj fir se papa k kandho par ghumne ka man krta hai,
Wo Dadaji k sath sair pe jane ka man krta hai.

Na jane hum itni jaldi bade kaise ho gae?
Kyu hum apni hi dunia me kho gaye?
Na jane samay kyu achanak badla karta hai?
Par aj mjhe fir se bachpan jeene ka man krta hai.

Aaj fir se unche jhulo par udne ko man krta hai,
Wo kagaz ki kashtiyo ko tairane ko man krta hai,
Aaj mjhe fir se bachpan jeene ka man krta hai.

Aaj fir se luka-chupi khelne ka man krta hai,
Wo bhai-behno k sath ladne ka man karta hai,
Aaj fir se mummy ki daat khane ka man krta hai,
Wo papa k gale lag k shikayat krne ka dil krta hai,

Na jaane ye din kab wapis ayege,
Kab hum apni choti si dunia me saari khushiya payege,
Na jaane kyu badalte jamane k sath hame bhi badalna padhta hai,
Par aaj mujhe fir se bachpan jeene ka man krta hai.

Ab na aege ye din fir se,
Jab hum mita denge saare raag-dwesh dil se,
Ye man aaj b un yaado ki galiyon me ghuma krta hai,
Aaj mjhe fir se bachpan jeene ka man krta hai….

If My Heart Was Up for Sale…

If my heart was up for sale,
Would you still even look for it,
When put up against the perfectly crafted one,
With the best drapes and ferocious beaut.
The one which held its head up with the pride,
Stopping everyone with aww and their jaws dropping by.
And then there was a heart not in the “Special Edition” showcase bars,
But in the dusty racks that just says “Sale.”
The one that has been stabbed a million times,
And mended with adhesives, that too with no perfect edges.
Standing meekly with trailing smile,
And with the brushed off looks of bidders passing by,
Stands my heart up for the sale,
Would you still even look for it?

सफरनामा!!

ट्रैन की खिड़की वाली सीट पे बैठे हुए,

उस सर्द हवा को महसूस करते हुए,

हमने उठा के अपनी कलम और सोचा,

आज कुछ लिखते हैं!!

और क़लम को काग़ज़ पर रखते हुए सोचा,

कि आज क्या लिखते हैं?

उस ढलते सूरज की कहानी लिखे?

या घर लौटते परिंदो की जुबानी लिखे?

जब सोच ही लिया है कि आज कुछ लिखते है,

तो इस सफरनामे पर ही कुछ लिखते है।

लीखते है, पटरियों पर भगती रेल की सरगम को,

कट-कट-कट-कट की धुन पर मटकती हमारी बोगी को,

लीखते है, उस खुले आसमान की असीम उचाईयो को,

इन बादलो में बने कभी शेर तो कभी अनजाने कलाकृतियो को,

लीखते है, पुडी और आलू की सब्जी की खुसबू को,

ओर आंटियो के अनगिनत किस्से और बच्चो की नादनियो को।

लिखते है, ट्रेन के किसी आउटर पे खड़े हो जाने को,

“ये ट्रैन तो हमेशा लेट होती है” ऐसा कह के तसल्ली दिलाने को।

ओर लिखते है, अपने शहर आते ही, इस छोटी सी दुनिया को अलविदा कहने को,

कुछ इसी तरह ख़तम करते ह अपने इस सफ़रनामे को।